मंदिर न बने बल्कि विद्या मंदिर बने,हिन्दू भाइयो से हमेशा मुझे इज़्ज़त मिली-डॉ कल्बे सादिक

बाराबंकी- मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वाईस प्रेसीडेंट डॉ कल्बे सादिक ने अयोध्या में राम मंदिर के सवाल पर कहा कि ज़रूर बने मंदिर,बल्कि श्री राम जी के पैगाम को बढ़ाने के लिए विद्या मंदिर बने।
इसका विवाद जब लोग सुलझाना चाहेंगे तो खुद बखुद सुलझ जायेगा।जब नहीं सुलझाना चाहेंगे तो नहीं सुलझेगा,
लेकिन इसको सुलझ जाना चाहिए। 
डॉ कल्बे सादिक साहब के इस बयान का पैगामे राम ट्रस्ट के हर्ष वर्धन अग्रवाल और उमेश श्रीवास्तव ने स्वागत करते हुए कहा हैं कि मौलाना कल्बे सादिक साहब का बयान श्री राम चन्द्र जी ने विद्या(इल्म) देकर जो आज के इंसानों को भाई चारा और इंसानियत,रिश्ते को अपनी ज़िंदगी में प्रैक्टिकल  कर समझाया हैं उसे कलियुग के लोगो को समझना होगा।
विद्या मंदिर का मतलब ही राम मंदिर होगा।
मौलाना डॉ कल्बे सादिक ने पूर्व कांग्रेस की प्रदेश अध्य्क्ष अब बीजपी सरकार में मंत्री रीता बहगुणा जोशी ,Jit के मंज़ूर गौरी और अवध यूनिवरसिटी के वाईस चांसलर के सामने आगे कहा कि  मदरसो की शिक्षा से ज़्यादा बेहतर मॉडर्न एजुकेशन है। उन्होने कहा कि हमारे आईडिया बिलकुल क्लियर कट है,हम जब एजुकेशन की बात करते है तो हमारी मुराद होती है मॉडर्न एजुकेशन,न की धार्मिक एजुकेशन,धार्मिक एजुकेशन भी ज़रूरी है।
लेकिन जो हमारी प्रॉब्लम है वह मॉडर्न एजुकेशन है। सैकड़ो ,हज़ारो मदरसे मौजूद है,कॉलेजस कितने है आप बताये,तो मुसलमानो की जो मेन प्रॉब्लम है वह मॉडर्न एजुकेशन की है।
उन्होंने साफ साफ इशारा करते हुए कहा मुसलमान मुसलमान का टांग खीचता हैं।डॉ कल्बे सादिक साहब ने आगे कहा कि मुझे मुसलमानो से प्रॉब्लम आयी है,हिन्दुओ से कभी कोई प्रॉब्लम नहीं आयी। मैं किसी की खुशामद नहीं करता, हिन्दुओ ने मुझे हमेशा इज़्ज़त दी। प्यार दिया।
मुसलमानो से पूछिये की दीन क्या है धर्म क्या है।  तो वह कहेगे नमाज़ पढ़ना,रोज़ रखना हज करना। ये धार्मिक प्रथाए है। दीन नहीं है। दीन वह कररेक्टर है जो विचुअल्स को अदा करने के बाद बनता है।
उन्होंने ये भी कहा कि मुसलमानो को बिलकुल भी रिश्वत नहीं लेना चाहिए।
डॉ कल्बे सादिक जहांगीराबाद इंस्टिट्यूट के दीक्षांत समारोह में शामिल होने आये थे। जहा उन्होने ये बयान देकर तहलका काट दिया।
उन्होंने योगी मोदी और बीजेपी सरकार को क्लीन चिट देते हुए जहा खुश कर दिया है।वही विनय कटियार के विवास्पद बयान पर तमाचा मारकर फ़िरक़ा परस्त ताक़तों से मुसलमानों का नज़रिया क्या हैं साफ कर दिया हैं।

News Posted on: 10-02-2018
वीडियो न्यूज़