अमेठी में अभय हत्याकांड पर एडीजी (लॉ एण्ड आर्डर)आनंद कुमार से मिले पत्रकार, विवेचक तलब

एडीजी लॉ एण्ड ऑर्डर ने माना गंभीर है अपराध...

हिंदी पत्रकार एसोसिएशन के सात सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने की मुलाकात

लखनऊ। गत 14 जनवरी को घटित हुए अमेठी जनपद के वरिष्ठ पत्रकार अजय सिंह के पुत्र अभय हत्याकांड के मामले को लेकर के आज एडीजी (लॉ एण्ड आर्डर) काफी गंभीर दिखे । हिंदी पत्रकार एसोसिएशन के 7 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल से मिलने के उपरांत एडीजी ने तत्काल 3 दिनों के अंदर अभय कांड के विवेचक को लखनऊ तलब किया है। 
उन्होंने यह भी कहा है कि मामला यह बहुत गंभीर है तथा इसका खुलासा जल्द से जल्द होना ही चाहिये।
जनपद अमेठी के वरिष्ठ पत्रकार अजय सिंह के पुत्र अभय सिंह की हत्या का मामला आज उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक कार्यालय जा पहुंचा।
 सनद हो कि गत 14 जनवरी को अभय की निर्मम हत्या कर दी गई थी। जिसके चलते पत्रकारों में खासा आक्रोश व्याप्त है। महत्वपूर्ण बात यह है कि इस गंभीर अपराध को लेकर के अमेठी जनपद की पुलिस का रवैया प्रारंभ से ही काफी लापरवाही भरा नजर आ रहा था। पत्रकारों के आक्रोश को देखते हुए स्थानीय कप्तान ने केवल थाना अध्यक्ष दीपेंद्र सिंह को ही लाइन हाजिर किया जबकि जहां तक सवाल है जांच का इस मामले में पुलिस के कदम अभी शून्य पर ही टिके हुए हैं। इन सभी स्थितियों से रूबरू होते हुए आज हिंदी पत्रकार एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष केशव पांडे ,प्रदेश उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार द्विवेदी राजू भैया, महामंत्री संतोष कुमार तिवारी ,पत्रकार सुमंगल त्रिवेदी, प्रशांत मिश्रा तथा अजय सिंह के नजदीकी परिजन अधिवक्ता संतोष सिंह सहित सात सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल एडीजी कानून-व्यवस्था आनंद कुमार से मिला। मुलाकात के दौरान पत्रकारों ने एडीजी ला एंड ऑर्डर से इस बात पर हैरानी जताई कि इतने दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस की कार्यवाही अभय हत्याकांड के मामले में जस की तस है। केवल यहां पर ताश के पत्तों की तरह अधिकारी को ही बदला गया है। अभय सिंह की हत्या किन परिस्थितियों में हुई। वह जवाहर नवोदय विद्यालय के प्रांगण से बाहर कैसे पहुंचा ऐसे तमाम सवाल हैं जिनका उत्तर अमेठी की पुलिस अब तक नहीं खोज सकी है। जबकि इस घटना को लेकर के जहां परिजन बहुत ही आहत हैं वहीं दूसरी ओर पत्रकार जगत से जुड़े हुए कलमकार भी काफी दुखी हैं और आक्रोशित भी। प्रदेश उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार द्विवेदी राजू भैया ने इस दौरान एडीजी को घटना से जुड़े हुए कई तथ्यों से अवगत भी कराया। उन्होंने कहा कि महत्वपूर्ण बात यह भी है कि केंद्र सरकार का महत्वपूर्ण उच्च शिक्षा संस्थान नवोदय विद्यालय जहां पर सैकड़ों बच्चे शिक्षा ग्रहण करते हैं वहां से सुरक्षा व्यवस्था को दरकिनार कर अभय को कैसे बाहर ले जाया गया यह विषय अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा राजू भैया ने अन्य कई तथ्य वार्ता के दौरान एडीजी ला एंड ऑर्डर के सामने रखें जिसे उन्होंने बहुत ही गंभीरता से सुना । 
एडीजी लॉ एण्ड ऑर्डर ने पत्रकारों की बात को बहुत ही ध्यान से सुना और उन्होंने यह माना कि वास्तव में अभय कांड बहुत ही महत्वपूर्ण एवं गंभीर घटना है तथा इसका खुलासा भी होना चाहिए। 
उन्होंने तत्काल निर्देश दिया कि अभय कांड की विवेचना कर रहे विवेचक को 3 दिनों के अंदर पूरी रिपोर्ट के साथ लखनऊ तलब किया जाए। इसके अलावा इस घटना से जुड़े सभी पहलुओं पर सटीक ढंग से जांच करवाई जाए। एडीजी ने पत्रकारों को आश्वासन दिया कि क्योंकि यह छात्रों की सुरक्षा से जुड़ा हुआ मामला है और अभय हत्याकांड एक ऐसी घटना है जो कहीं न कहीं सुरक्षा को भी प्रभावित कर रही है ऐसे में इस पूरी घटना का खुलासा जल्द से जल्द किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि पीड़ित परिजनों को न्याय मिलेगा ।उधर हिंदी पत्रकार एसोसिएशन के प्रदेश उपाध्यक्ष के बाद यदि राजू भैया में बातचीत में कहा है कि हां आज की एडीजी लॉ एंड ऑर्डर से वार्ता संतोषजनक रही है लेकिन फिर भी यदि शीघ्र न्याय नहीं मिलता है तो हमारे संगठन की ओर से संघर्ष के दरवाजे आगे भी खुले रहेंगे। हम वह हमारा संगठन तथा पत्रकार साथी तब तक चुप नहीं बैठेंगे जब तक अभय हत्याकांड का खुलासा नहीं हो जाता ।

News Posted on: 29-01-2018
वीडियो न्यूज़