पहले शिक्षा मंत्री और राष्ट्रपति अबुल कलाम ने भी मदरसे में की थी पढ़ाई-शिया धर्म गुरु मौलाना अदीब

अपने को वक़्फ़ खोरी की जांच से बचाने के लिए सरकार का ज़ेहन भटका रहा हैं शिया वक़्फ़ बोर्ड का चेयरमैन वसीम रिज़वी

बाराबंकी-देेश में आतंकवाद के खिलाफ सड़को पर प्रदर्शन करने वाले जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के रिसर्च स्कॉलर और शिया धर्मगुरु मौलाना अदीब हसन ज़ैदपुरी,शिया सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी के मदरसों में आतंकवाद पैदा होने वाले बयान से काफी गुस्से में हैं उन्होंने कहा पूर्व राष्ट्रपति अबुल कलाम साहब और पहले शिक्षा मंत्री ने मदरसे में ही की थी पढ़ाई, मौलाना अदीब हसन रिजवी जैदपुरी ने वसीम रिजवी पर हमला बोलते हुए आगे कहा"मदरसों के खिलाफ आवाज उठाने वाले पहले अपने आपको देखें। मदरसे ने 1857 की जंग में मुफ़्ती मोहम्मद अब्बास जैसा इंसान दिया, जिसने ब्रिटिश की गुलामी को कभी क़ुबूल नहीं किया। गांधी जी के साथ मौलाना अबुल कलाम आजाद और मौलाना हसरत मोहानी जैसे लोग साथ थे उनका संबंध भी मदरसों से था। मौलाना ने कहा- मदरसे की तालीम लेकर मौलाना प्रोफेसर बदरुल हसन जैसी शख्सियत निकली जिन्होंने बीएचयू में फारसी विभाग को बुलंदियों तक पहुंचाया। - मदरसों ने मोहम्मद जहीर और मुख्तार मोहसिन जैसे पीसीएस इस कौम को दिए। मौजूदा वक्त में मदरसों से शिक्षा लेने वाले प्रोफेसर नय्यर जलालपुरी लखनऊ यूनिवर्सिटी, जामिया मिल्लिया में असिस्टेंट प्रोफेसर सैय्यद कलीम असगर, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में असगर एजाज कायमी, हुसैनाबाद इण्टर कॉलेज में डॉ मिर्जा शफीक हुसैन शफक, संभल कॉलेज में असगर हैदरी साहब के अलावा न जाने कितने लोग इस मुल्क का नाम रोशन कर रहे हैं जो मदरसों से पढ़े हैं। मदरसे के स्टूडेंट देश के नामी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं और देश का नाम रोशन कर रहे हैं। मौलान अदीब ने कहा कि, "वसीम रिजवी बताएं कि इतने सालों में उन्होंने वकफ बोर्ड के लिए क्या किया है। अपनी कुर्सी के लिए जिन्होंने कभी आजम खान को बड़ा माना, वो अब योगी जी को गुमराह कर रहे है। वो यह सोचते हैं कि इससे वह बीजेपी में अपनी जगह बना लेंगे। आरएसएस बहुत अच्छी तरह जानता है कि जो आज कुर्सी के लिए अपनी कौम पर बयानबाजी कर रहा है। वह कल अपनी कुर्सी के लिए आरएसएस पर भी बयानबाजी करेंगा मौलाना अदीब ने मुख्यमंत्री योगी से कहा कि शैतान को दूर भगाइये आप महंत है। ये वक़्फ़ खोर खुद तो घोटाले बाज़ हैं ही आपकी सरकार को भी बदनाम करने की कोई कसर नही छोडेगा।वक़्फ़ बोर्ड के घोटालों की जांच करवाई।वक़्फ़ की बिक चुकी ज़मीनों की वापसी करवाकर इसको वसीम को जेल भेजिए और शिया वक़्फ़ बोर्ड का पुनर्गठन करवाइये।

News Posted on: 11-01-2018
वीडियो न्यूज़