लालू प्रसाद यादव को साढ़े 3 साल कैद और 5 लाख रुपये जुर्माने की सज़ा

 रांची स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाले से जुड़े देवघर कोषागार मामले में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर पांच लाख रुपये जुर्माना भी लगाया है

रांची-केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई है. इसके अलावा उन पर पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है. अदालत ने चारा घोटाले से जुड़े देवघर कोषागार मामले में यह सजा सुनाई है. इसमें 1991 से 1994 के बीच 89.27 लाख रुपये की अवैध निकासी की गई थी. इस मामले में अदालत ने 23 दिसंबर को राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव और 14 अन्य लोगों को दोषी ठहराया था. वहीं, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा सहित सात लोगों को बरी कर दिया गया था. लालू प्रसाद यादव तब से झारखंड के बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल में बंद हैं. सीबीआई की विशेष अदालत ने शनिवार को यह सजा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनाई. लालू प्रसाद यादव के अलावा सात अन्य दोषियों को भी साढ़े तीन साल की जेल की सजा सुनाई गई है. इसके अलावा पांच-पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. अदालत का फैसला आने के बाद राजद नेता और लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने कहा, ‘अदालत ने अपना कर्तव्य निभाया है. इस फैसले को देखने के बाद हम लोग हाई कोर्ट जाएंगे और जमानत की अर्जी लगाएंगे. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार शनिवार को सजा सुनाने से पहले सीबीआई जज ने कहा था, ‘इन लोगों (दोषियों) के लिए खुली जेल सबसे अच्छा है, क्योंकि इन्हें गायें पालने का अनुभव भी है.’ सीबीआई की विशेष अदालत बुधवार को ही सजा सुनाने वाली थी, लेकिन अलग-अलग कारणों से यह शनिवार तक के लिए टल गई थी. शुक्रवार को लालू प्रसाद यादव ने अपनी सेहत और उम्र का हवाला देकर अदालत से कम से कम सजा देने की गुजारिश की थी. राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को इससे पहले 2013 में चाईबासा कोषागार से 37.7 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के मामले में पांच साल की सजा हो चुकी है. उन पर 25 लाख रुपये का जुर्माना भी लगा था. उन्हें दो महीने बाद सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई थी.

News Posted on: 06-01-2018
वीडियो न्यूज़