वहाबियो के मदरसे के हॉस्टल में छेड़खानी की शिकायत पर पुलिस का छापा,संचालक गिरफ्तार

लखनऊ-अभी तलाक का मामला हल्का भी नही पड़ा था कि मदरसों के बच्चियो से यौन शोषण का मामला सामने आया हैं,राजधानी में शुक्रवार देर शाम पुल‍िस ने एक मदरसे पर छापेमारी कर उसके संचालक को अरेस्ट क‍िया है। मौके से 51 लड़क‍ियों को मुक्त कराया गया है। आरोप है क‍ि मदरसा संचालक लड़क‍ियों को बंधक बनाकर रखा था। उनसे छेड़छाड़ और अश्लील हरकतें करता था। पैर दबवाता था और व‍िरोध करने पर जानवरों जैसा सलूक करता था। पुल‍िस आरोपी के ख‍िलाफ केस दर्ज पूरे मामले की छानबीन कर रही है। घटना लखनऊ के सआदतगंज थाना क्षेत्र के अहले सुन्नत का मदरसा जामिया खदीजतुल कुबरा लीलबनात यासीनगंज की है। एसएसपी दीपक कुमार ने कहा, ''मेरे पास शुक्रवार शाम करीब साढ़े 6 बजे एक फोन आया। फोन करने वाले व्यक्त‍ि ने कहा, हमें आपसे म‍िलना है। इसके बाद उनके साथ 3 से 4 बुजुर्ग आए।'' बुजुर्गों ने बताया, '' साहब, हमारे यहां एक मदरसा है, जहां लड़क‍ियों के साथ बहुत गलत काम हो रहा है। कई सालों से ये सब हो रहा है, लेक‍िन हमलोग कुछ कह नहीं पा रहे थे। आप हमारी मदद कीज‍िए।'' एसएसपी ने कहा,इसके बाद इस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए हमने एसपी वेस्ट के नेतृत्व में टीम बनाई और सीओ सह‍ित वेस्ट के सभी थाना अध्यक्षों को वहां रेड करने के ल‍िए भेजा। इस दौरान मज‍िस्ट्रेट भी मौजूद रहे। जब हमलोगों ने छोपेमारी की तो वहां 51 लड़क‍ियां मौजूद थीं। पीड़‍ित लड़क‍ियों ने बताया, मदरसे का संचालक मो. तैय्यब जिया अमानवीय प्रवृत‍ि का व्यक्त‍ि है। जो लड़क‍ियां यहां पढ़ती हैं उसके साथ छेड़छाड़ का काम करता है। आरोपी तैय्यब को ग‍िरफ्तार मुकदमा दर्ज कर ल‍िया गया है। लड़क‍ियों को फ‍िलहाल नारी न‍िकेतन में रखा गया है। मदरसे की जांच की जा रही है। जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।'' एएसपी विकास त्रिपाठी ने बताया, मदरसे में 125 छत्राओं के नाम दर्ज हैं, लेकिन छापेमारी के दौरान 51 छात्राएं मौजूद थीं, ज‍िन्हें मुक्त करा ल‍िया गया है। पुलिस ने नजरअंदाज कर दिया था मामला इंदिरानगर निवासी सैयद मोहम्मद जिलानी अशरफ ने बताया, इसकी सूचना सआदतगंज पुलिस को दी गई थी, लेकिन पुलिस ने मामले को नजरअंदाज कर दिया। पुलिस मौके पर गई, लेकिन बिना जांच किए ही मामले को खत्म कर दिया। हालांक‍ि, जब मदरसे में कैद लड़कियों ने अपनी पीड़ा कागज में लिख कर बाहर फेंका तो लोगों ने उसे एसएसपी दीपक कुमार को दिया। एसएसपी ने इसकी सूचना जिला प्रशासन को देते हुए एएसपी वेस्ट विकास चन्द्र त्रिपाठी के नेतृत्व में एक टीम बनाई। छापेमारी में जब लड़कियों के बयान लिए गए तो आरोप सही पाया गया। अशरफ ने बताया, उन्होंने यह मदरसा बनवाकर मो. तैय्यब जिया को संचालन के लिए दिया था। लेकिन बाद में उसने मदरसे में हॉस्टल चलाना शुरू कर दिया। जब हमें उसकी गतिविधियों के बारे में जानकारी हुई तो उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस से की थी, लेकिन पुलिस ने इसे नजरअंदाज कर दिया। लड़क‍ियों ने कुछ यूं बयां किया है दर्द लेटर के जर‍िये लड़क‍ियों ने बताया है क‍ि आरोपी छात्राओं के साथ मारपीट करता था। उनसे पैर दबवाता था और विरोध करने पर उनके साथ जानवरों जैसा सलूक करता था। छात्राओं का आरोप है कि वह उनके साथ छेड़खानी और अश्लील हरकतें भी करता था।

News Posted on: 29-12-2017
वीडियो न्यूज़