बीजेपी की छीछालेदर करने में लगे पूर्व विधायक सुंदर लाल दीक्षित का नया कारनामा

 

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई के  चित्र पर माला,अगरबत्ती, दीपक जलाने के मना होने के कड़े निर्देश को तोड़ते हुए कर दिया चित्र पर माल्यर्पण।बना चर्चा,हर तरफ निंदा
उमेश चंद्र श्रीवास्तव
बाराबंकी- पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी के जन्म दिन मनाने के लिए कार्यकर्ताओ को दिए गए पार्टी के निर्देश कि अटल जी के चित्र पर अगरबत्ती, दीपक,और माला नही डाली जायँगी सिर्फ चंदन रोली का तिलक लगाया जायेगा के फरमान का अपमान कर  नेता पंडित सुंदर लाल दीक्षित ने उनके चित्र पर माल्यापर्ण कर बीजेपी की छीछालेदर करवाने वाला कारनामा अंजाम दिया हैं।इसकी हर तरफ निंदा हो रही हैं।
मालूम हो पूर्व प्रधानमंत्री का जन्म दिवस पूरे देश मे भाजपा ने धूमधाम से मनाया लेकिन हैदरगढ़ में पूर्व विधायक  सुंदर लाल की अगुवाई में मनाए गए जन्मदिन में सैकड़ो कार्यकर्ताओ की मौजूदगी में  ऐसा हो गया जब जीवित होते हुए भी मृत की भांति एक के बाद एक कार्यकर्त्ताओं  ने चित्र पर माल्यार्पण किया। लेकिन इस मौके पर देखने मे ये आया की किसी ने भी एक बार भी इस बात पर गौर नही किया। अब ऐसे में इसे क्या कहा जाएगा पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी बाजपेयी का अपमान या जानबूझकर की गई हरकत ।
मालूम हो आजकल सूंदर लाल अपने को मीडिया में सुर्खी में रहने के लिए अपनी ही पार्टी के लिए मुसिबत खड़ी किये हुए हैं।बीते दिनों बीजेपी की शान और तेज़तर्रार सांसद प्रियंका रावत पर भी अपने खुराफाती बयान से किरकिरी करा चुके हैं।इनकी  हरकतों से नेता और कार्यकर्ता सभी आजिज़ रहते हैं।ऐसा कई कार्यकर्ताओ ने नाम न छापने की शर्त पर अपने दुख का इज़हार किया।
बाराबंकी धर्मशाले के ज़िले के बड़े ज्ञाता पंडित राजेश मिश्रा शास्त्री जी ने कहा ज़िंदा इंसान के चित्र पर न माला पहनाई जा सकती हैं ना पुष्पांजलि ये हिन्दू धर्म के अनुसार गलत हैं।मैं इसकी निंदा करता हूँ।
बीजेपी के जिला मीडिया संपर्क प्रमुख देवेंद्र प्रताप सिंह प्रमुख ने कहा कि अटल जी के जन्म दिन को लेकर संघटन के कड़े निर्देश थे कि माला और अगरबत्ती का इस्तेमाल नही किया जायेगा।अगर किसी ने ऐसा किया हैं तो वो निंदनीय है।
बीजेपी के जिला अध्य्क्ष अवधेश श्रीवास्तव ने कहा कि पार्टी के कड़े निर्देश के बावजूद ऐसा करना तकलीफ देह हैं।वो खुद इसका जिम्मेदार हैं।सिर्फ चित्र पर चंदन रोली के लिए कहा गया था,चित्र पर माला,अगरबत्ती और दीपक जलाने के लिए सख्ती से मना किया गया था।

 

News Posted on: 25-12-2017
वीडियो न्यूज़