अवध के छठे नवाब वाजिद अली शाह के महिला दस्ते की सदस्य वीरांगना ऊदा देवी के योगदान को भूला नही जा सकता - प्रियंका

बाराबंकी -तहसील सिरौलीगौसपुर के ग्राम सेवरहा में पारखमहासंघ के तत्वाधान में वीरांगना ऊदा देवी पुष्पांजलि समारोह का आयोजन किया गया, कार्यक्रम के दौरान बाराबंकी सांसद प्रियंका सिंह रावत के साथ मोहनलालगंज सांसद कौशल किशोर, जैदपुर विधायक उपेन्द्र सिंह रावत ने उनकी स्म़तियों को याद कर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की, विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए सांसद ने कहा कि देश की आजादी में वीरागना ऊदा देवी के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। ऊदा देवी पासी एक भारतीय स्वतन्त्रता सेनानी थीं जिन्होने 1857 के प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान भारतीय सिपाहियों की ओर से युद्ध में भाग लिया था। ये अवध के छठे नवाब वाजिद अली शाह के महिला दस्ते की सदस्य थीं। इस विद्रोह के समय हुई लखनऊ की घेराबंदी के समय लगभग 2000 भारतीय सिपाहियों के शरणस्थल सिकन्दर बाग़ पर ब्रिटिश फौजों द्वारा चढ़ाई की गयी थी और 16 नवंबर 1857 को बाग़ में शरण लिये इन 2000 भारतीय सिपाहियों का ब्रिटिश फौजों द्वारा संहार कर दिया गया था। कार्यक्रम के दौरान पारख महासंघ द्वारा मांगपत्र प्रस्तुत करते हुए घाघरा नदी तथा आसपास के गांवो को प्रधानमंत्री फसल योजना का लाभ, पुर्नवास की व्यवस्था, मार्ग चौड़ीकरण तथा कटान से बचाने हेतु प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम में भारी संख्या में उपस्थित महिलाओं व ग्रामीणों ने वीरांगना ऊदा देवी के इतिहास को जानकर गौरवांवित महसूस किया। इस अवसर पर राजेश वर्मा, विनोद सिंह, साकेत रावत सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

News Posted on: 23-12-2017
वीडियो न्यूज़