कनाडा पार्लियामेंट के बुलावे पर युवा सांसद प्रियंका रावत पहुची कनाडा,कॉन्फ्रेंस में देश,यूपी,और बाराबंकी का बनाया जलवा

रिज़वान मुस्तफ़ा

बाराबंकी-ज़िले की खूबियो में उस वक़्त आज एक और इजाफा हुआ जब युवा सांसद प्रियंका रावत ने युथ पार्लियामेंट्री 4 सदस्यों की कमेटी के साथ कनाडा की संसद और अंतर-संसदीय संघ द्वारा संयुक्त रूप से संगठित सम्मेलन,जो ओटावा कनाडा में 17 और 18 नवंबर को आयोजित किया गया है में देश की तरफ से नुमाइंदगी की।
युवा सांसदों के चौथे अंतर-संसदीय संघ (आईपीयू) वैश्विक सम्मेलन में दुनिया भर से 130 से अधिक युवा सांसद वर्तमान लोकतांत्रिक,आर्थिक और सामाजिक विभेदों के समाधान की पहचानके साथ अधिक समावेशी आर्थिक और सामाजिक नीतियां के बारे में चर्चा करने के लिए एक जुट हुए हैं।
इस कांफ्रेंस में सांसद प्रियंका रावत ने अपनी तक़रीर से देश और खासकर बाराबंकी का सिक्का जमा कर जलवा बना दिया हैं।
होटल मैरियट में होने वाली 2 दिन की कांफ्रेंस में उनके साथ मैसूर के सांसद प्रताप सिम्हा, कश्मीर से राज्य सभा सदस्य मोहम्मद फ़ैयाज़,और जोइंट सेक्रेटरी डी एस मलहा हैं।
प्रियंका रावत बाराबंकी की पहली युवा MP हैं जो कनाडा इस कांफ्रेंस ने बुलाई गई हैं।
ज़िले के कृषि,कारोबार सामाजिक माहौल,यवाओ की तालीम,रोज़गार,के साथ देवा महादेवा और गंगा  जमुनी,तहज़ीब,का उन्होंने अपनी तक़रीर में खास तज़किरा कर दुनिया की इस अकेली युवाओं की तरक्की के लिए होने वाली कांफ्रेंस में बाराबंकी की तरफ मुतावज्जे कराकर अपने देश का नज़रिया सामने रक्खा।
वो देश से जाने वाले 4 सदस्यीय प्रतिनधि मंडल की मुखिया हैं।
इस सम्मेलन में अन्य बातों के अलावा, युवा राजनीतिक भागीदारी, प्रवास और सामाजिक एकीकरण, और सभी के लिए समावेशी आर्थिक अवसरों पर ध्यान दिए जाने के अलावा अल्पसंख्यक पुरुषों और महिलाओं,युवा और बुजुर्ग, गरीब और समृद्ध,शिक्षित और अशिक्षित प्रत्येक व्यक्ति को बिना किसी प्रतिबंध या किसी भी प्रकार के भेदभाव के समान अवसरों तक हर सुविधाएं कैसे पहुंचे और प्राप्त हो पर चर्चा हो रही हैं।
 27 मिलियन युवा लोग अपने देश में जन्म लेने के बाद विदेश में शिक्षा और रोजगार पाने और गरीबी, हिंसा और संघर्ष से बचने के लिए देश छोड़ रहे हैं।
फीचर्ड पैनलिस्ट में परिवार नीति विशेषज्ञ पॉल कैर्सो, कनाडा के मुख्य व्यापार आयुक्त एलीश कैंपबेल, महिला और लड़कियों के अधिकार कार्यकर्ता फराह मोहम्मद, फेसबुक,केविन चान, कनाडा के प्रिवी काउंसिल के क्लार्क, माइकल वर्निक और  बांग्लादेश, कनाडा, इंडोनेशिया, इटली, जॉर्डन, माली और नाइजीरिया के नव निर्वाचित युवा सांसदों,आईपीयू अध्यक्ष, जो युवा सांसद खुद हैं, गैब्रिएला क्यूवस बैरन, और आईपीयू के महासचिव मार्टिन चुंगोंग सम्मेलन में आये हैं।
युवक सशक्तिकरण और शामिल किए जाने वाले युवा और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में एटकिन्सन फाउंडेशन, जनरेशन स्क्वैज, समारा और मलाला फंड, फर्स्ट नेशंस यूथ काउंसिल की विधानसभा,समान आवाज, विश्व शरणार्थी परिषद, आईएलओ और यूएन एड्स भी सम्मेलन में शामिल हए हैं।
निजी क्षेत्र की कंपनियां, जैसे कि फेसबुक जैसी सोशल मीडिया की कंपनियां जो युवा आर्थिक सशक्तिकरण को प्रभावित करते हैं इसमे शामिल हुए हैं
इस चौथे सम्मेलन में युवा सांसदों को राष्ट्रीय और वैश्विक नीति बनाने में शामिल किए जाने के एजेंडे को चलाने के लिए सशक्त बनाने की ट्रेनिग भी दी जा रही हैं,
 आईपीयू आंकड़ों ने आगे आने वाले समय मे संसदों में युवाओं की भागीदारी के संकट को उजागर किया हैं।  
मालूम हो दुनिया भर के युवा सांसदों की वार्षिक आईपीयू ग्लोबल कॉन्फ्रेंस अंतर्राष्ट्रीय युवाओं के अनुभवों को साझा करने, नेटवर्क बनाने, और युवाओं के समन्वित दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए युवा महिलाओं और पुरुष सांसदों को एक जुट करती हैं।
#priyanka,#barabanki,#Delhi,#Mp,#canada,#india,#Global conference,
News Posted on: 18-11-2017
वीडियो न्यूज़