विधायक गोदाबरीश मिश्रा का बेटा भी चीफ जस्टिस बना और अब पोता भी

इनके बाबा एक कवि, संपादक, प्रखर समाजवादी और स्वतंत्रता सेनानी थे. देश की आजादी से पहले भी उनका बड़का वाला राजनीतिक कद था. इसे ऐसे समझिए कि 1937 से लेकर मरते दम तक (एक टर्म को छोड़कर) वो ओडिशा विधानसभा के सदस्य रहे. महात्मा गांधी से प्रभावित होकर कांग्रेसी बन गए. फिर 1939 में सुभाष चंद्र बोस के साथ चल दिए तो फिर कांग्रेस में नहीं लौटे. 1952 में निर्दलीय ही लड़&#
News Posted on: 28-08-2017
वीडियो न्यूज़