छीछालेदर कराकर सत्ता खोने वाले अखिलेश और शिवपाल हुए मुलायम,सैफई में जमा होकर राम गोपाल के साथ खायी मिठाई........कोलकाता में 19 मंजिला इमारत में भीषण आग, लगातार फैल रही, फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां मौके पर.........

E-Paper

कठमुल्लाओ पर योगी के इकलौते मुस्लिम मंत्री का तमाचा,मोहसिन रज़ा ने कराया शादी का 16 साल बाद रजिस्ट्रेशन

लखनऊ. 16 साल बाद योगी सरकार के इकलौते मुस्लिम चेहरे और राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने गुरुवार को अपनी शादी का रजिस्ट्रेशन गुरुवार को करा दिया। पत्नी फौजिया सरवर फातिमा के साथ पहुंचे मोहसिन रजा ने अपर नगर मजिस्ट्रेट ट्रांसगोमती को अपना फॉर्म सौंपा। इस मौके पर उनके साथ हसिन रजा के साथ पिता हैदर रविक,उनकी मां शाहिद बेगम,ससुर जमाल हामिद मौजूद थे।
योगी सरकार ने किया है मैरिज रजिस्ट्रेशन को जरुरी
योगी सरकार ने बीते मंगलवार को राज्य में सभी धर्मों और जाति के लिए शादी का रजिस्ट्रेशन अनिवार्य कर दिया है। इस नियम के लागू होने के बाद अब किसी भी तरह की योजना, जिसमें विवाहित होने का सबूत देना होगा उसके लिए मैरिज सर्टिफिकेट अनिवार्य होगा।
-ये रजिस्ट्रेशन उन लोगों के लिए जरुरी नहीं होगा, जिनकी शादी इस नियम से पहले की है। हालांकि सरकारी योजनाओं का लाभ लेने के लिए विवाहित होने का प्रमाण देना होगा, तब मैरिज सर्टिफिकेट लगाना उनके लिए जरुरी होगा।
-सरकार के इस फैसले पर कई तबकों ने इसकी तारीफ की है। वहीं मुस्लिम समाज के लोगों ने धर्म के खिलाफ बताते हुए विरोध किया।
-विरोध के बावजूद राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने अपने समाज के लोगों को एक संदेश देते हुए खुद सबसे पहले शादी का रजिस्ट्रेशन कराने कलेक्ट्रेट पहुंचे। मोहसिन रजा ने रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरने के साथ 50 रुपए जमा किए।
योगी सरकार के फैसले का स्वागत
राज्य मंत्री मोहसिन रजा ने सरकार के फैसले का स्वागत करते हुए कहा, “योगी सरकार के फैसले का स्वागत करता हूं, मैरिज का रजिस्ट्रेशन हर किसी के लिए जरुरी है, सभी को रजिस्ट्रेशन करना चाहिए’’।
4 सितंबर 2001 को हुई थी शादी
राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने बताया उनकी शादी 4 सितंबर 2001 को हुई थी। उससे पहले उनको पत्नी से प्यार था। आज हम करीब 16 साल बाद यह रजिस्ट्रेशन करा रहे हैं ।
पंजीकरण कराने के लिए इन डिटेल्स को करें फॉलो
-वेबसाइट igrsup.gov.in पर विज़िट करें।
-नागरिक ऑनलाइन सेवाओं के सेगमेंट में विवाह पंजीकरण का विकल्प मिलेगा।
- इसमें अगर पति और पत्नी दोनों के पास आधार हैं तो वे चंद स्टेप पूरे कर रजिस्ट्रेशन घर बैठे करवा सकते हैं।
- विवाह के लिए आधार नंबर जरूरी होगा। पंजीकरण में आधार का वेरीफिकेशन किया जाएगा।
- इसके साथ मुस्लिम समाज के लोगों को निकाहनामा भी जमा करना होगा।
थाने का वेरिफिकेशन होना जरूरी
-प्रभारी एडीएम आपूर्ति आशुतोष मोहन ने बताया मैरिज रजिस्ट्रेशन फॉर्म कलेक्ट्रेट में जमा किया जाता हैं । फॉर्म जमा करते समय हसबैंड-वाइफ का मौजूद होना अनिवार्य हैं । फॉर्म जमा होने के बाद स्थानीय थाने से पते का वेरीफिकेशन होना जरूरी हैं।
रजिस्ट्रेशन में देरी पर लगेगा जुर्माना
- देरी होने पर मैरिज रजिस्ट्रेशन कराने वालों को जुर्माना भी देना पड़ेगा। एक साल विलंब होने पर 50 रुपये व दो साल विलंब होने पर 100 रुपये का जुर्माना लगेगा। यानी हर साल 50 रुपये के हिसाब से यह बढ़ता चला जाएगा।

News Posted on: 03-08-2017
वीडियो न्यूज़