अल्पसंख्यक परिवार पर भीड़ ने ट्रेन में किया हमला, महिलाओं को भी नहीं बख्शा

 

आगरा-उत्तर प्रदेश के मैनपुरी के पास एक ट्रेन में फिर से शर्मनाक हरकत हुई है। शिकोहाबाद-कासगंज पैसेंजर ट्रेन में सफर कर रहे 10 सदस्यों वाले एक अल्पसंख्यक परिवार को भीड़ ने निशाना बनाया और पिटाई कर दी। महिलाओं और बुजुर्गों के साथ ही एक दिव्यांग शख्स भी परिवार के साथ सफर कर रहा था। इन सब पर भीड़ ने बुधवार शाम अटैक कर दिया। 
फर्रुखाबाद के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में इलाज करवा रहे परिवार के एक सदस्य ने कहा कि हम पर इसलिए हमला हुआ क्योंकि हमारे कपड़े और पहचान उनसे अलग नजर आ रही थी। पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है। 50 साल के पीड़ित मोहम्मद शाकिर ने बताया, 'भोगांव के पास हम ट्रेन में चढ़े। ट्रेन ने सिर्फ 4 किमी. तक की ही दूरी तय की होगी जब एक शख्स ने मेरे बेटे दिव्यांग बेटे फैजान का फोन छीन लिया।' 
शाकिर ने बताया, 'फोन छीनने का फैजान ने विरोध किया तो उन लोगों ने मारपीट शुरू कर दी। परिवार की महिलाओं और फैजान को गालियां देने लगे।' 10 लोगों में से 4 को फ्रैक्चर हुआ है वहीं लगभग सभी सदस्यों को सिर और पेट में चोट लगी है। शाकिर कहते हैं, 'निबाकरोरी स्टेशन पर जब ट्रेन रुकने वाली थी उससे कुछ पहले इन लोगों ने चेन खींच दी। इसके बाद कुछ और लड़के रॉड लेकर घुस गए और एक साथ हम पर हमला कर दिया।'
पीड़ित परिवार का कहना है कि भीड़ को आते देखकर हमने ट्रेन कंपार्टमेंट के गेट को लॉक करने की कोशिश की, लेकिन भीड़ कंपार्टमेंट में घुसने में सफल हो गए। पीड़ित परिवार के एक सदस्य ने बताया, 'हमारे साथ उन्होंने तब तक मारपीट की जब तक बेहोश नहीं हो गए।' आखिरकार किसी तरह आपातकालीन खिड़की खोलकर भागने में सफल रहे। 
मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी ने कहा, 'ऐसा लग रहा है कि पीड़ित महिलाओं को प्रताड़ित किया गया है। उनके शरीर पर चोट के निशान हैं और साथ ही कपड़े भी फटे हुए हैं। फिलहाल वो लोग ज्यादा कुछ कहने की हालत में नहीं है। हमने मामले की जांच शुरू कर दी है। दोषियों को पकड़ लिया जाएगा।'

 

 

News Posted on: 14-07-2017
वीडियो न्यूज़