खुदर्गज सियासत और शिवभक्तों की मौत

सुमंगल दीप त्रिवेदी....

बीती रात को अमरनाथ यात्रियों पर हमले की खबर ने समूचे देश को झकझोर कर रख दिया। सोेशल मीडिया पर शोक संवेदनाओं का तांता लग गया। चारों ओर आतंकवाादियों के इस कृृत्य की निंदा की जाने लगी। लेकिन इन सबके बीच मानस पटल पर अचानक कई सवाल भी कौंधनेे लगेे। सभी के दिलोदिमाग मेें ऐसे सवाल उठने लाजमी हैं। भगवान शिव की पूजा-अर्चन का अनुपम महत्व लियेे श्रावण मास की शुरूआत जोे हुई थी। सभी के दिल में संवेदनाएं हिंचकोले ले रहीं थीं तो एक गुस्सा भी छाया हुआ था। श्रावण मास के प्रथम सोमवार की रात साढ़े आठ बजेे बाबा अमरनाथ बर्फानी की यात्रा पूरी कर लौट रहे शिवभक्तों पर  आतंकवादियों द्वारा किये गये हमले नेे पूरेे देश को सदमें में डाल दिया। इस हमले में गुजरात प्रांत के आठ शिवभक्तों की मौत हुई। रात करीब साढ़े आठ बजे जम्मू कश्मीर प्रांत केे अनन्तनाग में आतंकवादियों ने इस कुकृत्य को अंजाम दिया। घटना की जानकारी मिलते ही सीआरपीएफ की 90वीं और 40वीं वाहिनी मौका-ए-वारदात पर पहुंच जाती हैं। घायलों को उपचार के लिए अस्पताल ले जाया जाता है। 
  यह सब कार्रवाई तो घटना के बाद की है। आवश्यकता है घटना से पूर्व की स्थितियों पर अवलोकन करने की। सबसे महत्वपूर्ण गौर करने वाली बात यह है कि रात में सात बजे के बाद जब काफिले की यात्रा प्रतिबंधित है, तो हाइवे पर यह बस कैसे आ गयी? जब इस बस का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ था तो इसे तीर्थयात्रियों को कैसे मुहैया कराया गया? तीसरा आखिर गुजरात प्रांत के ही तीर्थयात्रियों से भरी बस बिना कन्वाय (काफिला) कैसे देर रात अकेले जा रही थी? कहीं सियासत की भेंट तो नहीं चढ़ गये आठ शिवभक्त? 
  यह सब ऐसे सवाल हैं, जिन पर गौर करना जरूरी है। देश के गृहमंत्री इस हमले की कड़ी निंदा करते हैं। लेकिन इस निन्दा अर्थात कड़ी निन्दा से क्या आज तक आतंकवादियों पर कोई प्रभाव पड़ा? देश की सवा सौ करोड़ जनता इन कई सवालों के जवाब ढूंढ़ रही है। बड़ा अजीब इत्तिफाक है कि जिस दिन देश के गृहमंत्री का जन्मदिन होता है, उसी दिन आतंकवादियों द्वारा इस दुस्साहस को अंजाम दिया जाता है। खुफिया एजेंसियों ने सरकार एवं श्राइन बोर्ड को हमले के पूर्व में ही चेताया था। लेकिन सरकार ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। आखिर एक सवाल और कौंधता है कि श्री अमरनाथ यात्रा को सेना के हवाले क्यों नहीं कर दिया जाता है? अमरनाथ यात्रा का बहुसंख्यक समुदाय में विशेष महत्व है। सरकार भी जानती है कि इस यात्रा में यदि इस तरह की घटनाएं होंगी तो करोड़ों बहुसंख्यकों को आघात पहुंचेगा। हिन्दी भाषी क्षेत्रों से बहुतायत संख्या में लंगर भी श्री अमरनाथ यात्रा के दौरान लगते हैं। वर्ष 2012 में श्री अमरनाथ जी यात्रा के बेस कैम्प बालटाल में चंद कश्मीरियों द्वारा बवाल भी किया गया था। इसके बाद सीआरपीएफ ने हल्का बल प्रयोग कर मामले को काबू में किया गया था। वर्ष 2007 में भी यात्रा दौरान काफी बड़ा हमला हुआ था। लेकिन वर्ष 2007 के बाद से अब 2017 में फिर अमरनाथ श्रद्धालुओं पर पूर्व नियोजित हमला हुआ है। पूर्व नियोजित इसलिए क्योंकि आतंकवादियों को बस के मार्ग, समय आदि की पूरी जानकारी थी। इस बात को नकारा नहीं जा सकता। रही बात बिना रजिस्ट्रेशन के बस का यात्रियों को लेकर जाना। आखिरकार किस ट्रैवेल एजेंसी द्वारा यह बस यात्रियों को मुहैया करायी गयी, इस पर भी विचार करना होगा। 
  चूंकि भारतवर्ष अनेकता में एकता के सूत्र में बंधा हुआ है। इसलिए यहां विभिन्न बोलियों, वेश-भूषाओं, रहन-सहन, लोक संस्कृतियों का अद्भुत संगम है। लेकिन अंग्रेजों ने बंटवारे की जो तस्वीर सन् 1947 में बनायी थी, आज उसका दंश हम सब झेल रहे हैं। गुजरात प्रांत के यात्रियों से भरी बस को निशाना बनाना कुछ और भी इंगित कर रहा है। वर्ष 2017 में गुजरात में चुनाव होने हैं। अभी कुछ अरसा पूर्व ही गुजरात जातिवादी आंदोलनों की आग में झुलस रहा था। हार्दिक पटेल पर रासुका के तहत कार्रवाई भी की गई थी। मोदी का गुजरात के मुख्यमंत्री का पद छोड़ने के बाद आनंदीबेन को गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया गया था। लेकिन हालात बेकाबू हो चले थे। इसलिए उनको पद से हटा भी दिया गया। इसके आगे समझना स्वयं में आसान है। 
  हम सब भावनाओं में बहुत जल्दी बह जाते हैं। धर्म को संकुचित कर पेश कर दिया गया है। एक कट्टरता का माहौल बनाया जा रहा है। आखिकार, आईसीजे द्वारा कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्तान के विरूद्ध कड़ा रवैया अपनाया गया। इस खबर के बाद आखिरकार कुलभूषण जाधव कहां चला गया? क्या वो मां भारती की संतान नहीं है? जिसके लिए देश में तमाम आंदोलन होते हैं, गोष्ठियां होती हैं, क्या वह अपने परिवार का चहेता नहीं था? भारतीय सेना के दो जवानों के सर पाकिस्तानी फौज काटकर ले जाती है और केन्द्र सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी रह जाती है। 
 चंद अकलमंद यह कहेंगे कि युद्ध से देश की अर्थव्यवस्था बिगड़ेगी। देश में महंगाई बढ़ जायेगी। देश कर्ज में डूब जायेगा। तो जब देश की जनता नोटबंदी और जीएसटी झेल गई, तो मां भारती के लिए थोड़ी महंगाई और सही। सरकार की मंशा दृढ़ होनी चाहिए कि अब आतंकवाद को और बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसका समूल नाश करने के लिए जो भी कदम उठाने पड़ें, उठायेंगे। देश की सवा सौ करोड़ जनता अब दिल्ली की ओर बड़ी ही दीन-हीन नजरों से निहार रही है। यदि अब नहीं तो आखिर कब...।         

 

News Posted on: 11-07-2017
वीडियो न्यूज़