शिया वक़्फ़ बोर्ड का वक़्फ़ खोर चेयरमैन वसीम रिज़वी को दिया हाई कोर्ट ने झटका ,गिरफ़्तारी पर रोक लगाने की याचिका ख़ारिज

इलाहाबाद -हाईकोर्ट से शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी को तगड़ा झटका लगा है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी के खिलाफ बरेली के किला थाने में दर्ज मुकदमा रद्द करने और गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग वाली याचिका खारिज कर दी है.
गौरतलब है कि बरेली के किला थाने में चार अप्रैल 2017 को शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी के खिलाफ स्थानीय मुत्तावली ने वक्फ की सम्पत्ति के दुरुपयोग के मामले में एफआईआर दर्ज करायी थी.
यह भी पढ़ें: योगी सरकार लखनऊ में उर्दू यूनिवर्सिटी के लिए देगी ज़मीन
एफआईआर में आरोप लगाया गया था कि वसीम रिजवी ने वक्फ की कुछ दुकानें एक करोड़ बीस लाख में पांच हजार प्रति माह किराये पर बगैर नियमों का पालन किए लोगों को दे दी हैं और यह धनराशि वक्फ के खाते में जमा नहीं करायी.
जबकि पहले यही दुकानें 36 लाख में दस हजार प्रति माह किराये पर दी गईं थी. जिसका सारा पैसा वक्फ के खाते में जमा भी हुआ था।.इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा है कि शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी के खिलाफ इसी तरह के छह मामले में सीबीसीआईडी ने वर्ष 2013 में दर्ज कराया था.
जिस मामले में उन्हें पहले हाईकोर्ट और बाद में सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली थी. उसके बाद आज तक वसीम रिजवी ने सरेंडर नहीं किया. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कोर्ट के आदेश को न माने जाने को लेकर शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी की याचिका खारिज करने का आदेश दिया है. मामले की सुनवाई जस्टिस अरुण टण्डन और जस्टिस राजुल भार्गव की डिवीजन बेंच में हुई.

News Posted on: 18-04-2017
वीडियो न्यूज़