वक्फ बोर्ड के अधिकारियों-कर्मचारियों पर करप्शन का आरोप है। इसे लेकर मैं सीएम योगी से बात करूंगा और वक्फ बोर्ड को भंग करने की बात कहूंगा।"
मोहसिन ने हटवाई थी मुलायम-आजम की फोटो
बता दें, इससे पहले 23 मार्च को भी योगी सरकार के अकेले मुस्लिम मंत्री मोहसिन रजा ने अपने ऑफिस पहुंचकर अफसरों को डांट लगाई थी। 
उन्होंने अपनी सीट के पीछे मुलायम सिंह यादव और आजम खान की फोटो लगी हुई देखी तो वे नाराज हो गए। उन्होंने अफसरों से पूछा- सरकार किसकी है? जब सही जवाब नहीं मिला तो बोले- यहां पीएम और सीएम की तस्वीर लगाइए।
योगी ने किया था हजरतगंज थाने-गोमती रिवरफ्रंट का इंस्पेक्शन
वहीं, 23 मार्च को ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के हजरतगंज थाने का इन्सपेक्शन किया था। यहां उन्होंने पुलिसवालों से उनके कामकाज करने का तरीका जाना था। 
साथ ही ये भी कहा था कि ये उनका आखिरी इन्सपेक्शन न समझा जाए। वे यहां आते रहेंगे। 
इसके बाद योगी ने अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट गोमती रिवरफ्रंट का जायजा लिया था। यहां गंदगी देखकर सीएम काफी नाराज भी हुए थे। इसके बाद उन्होंने गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की जांच के आदेश दिए थे।
योगी सरकार के कुछ बड़े फैसले
सीएम योगी ने अपने पहले ऑर्डर में अपने मंत्रियों और अफसरों से उनकी प्रॉपर्टी का ब्योरा मांगा था।
राज्य में अवैध बूचड़खानों पर नकेल कसी गई। इससे गोहत्या की रोकथाम होने की बात कही गई है।
महिलाओं को छेड़छाड़ से बचाने और उनकी हिफाजत के लिए एंटी रोमियो स्क्वॉड बनाया गया।
राज्य में सरकारी डि‍पार्टमेंट्स में वर्किंग ऑवर्स के दौरान पान-गुटखा खाने और प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगाई गई।
योगी ने ऑर्डर दिया कि उनका कोई मंत्री अनाप-शनाप बयानबाजी नहीं करेगा। इसके लिए सरकार के दो स्पोक्सपर्सन अप्वाइंट किए गए हैं।
यूपी के सभी थानों, पुलिस चौकियों और पुलिस लाइन्स में साफ-सफाई का ऑर्डर दिया।
गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की जांच के आदेश दिए गए हैं।
"/> -->> Tehalka Today <<--

वाह रे कश्मीरी लानत पीटे मुसलमान शबे क़द्र २७ रमजान को मस्जिद के बाहर मुस्लिम DSP को पीट-पीटकर मार डाला,मोदी और उनकी महबूबा तुम यज़ीदी मुसलमानो माफ़ कर दे,लेकिन अल्लाह नहीं माफ़  करेगा क़ातिलों तुमको.......


E-Paper

सीएम योगी के मिनिस्टर मोहसिन रज़ा ने देखा शिया वक़्फ़ बोर्ड का बुरा हाल ,मिले कर्मचारी गायब

 

एग्रिकल्चर मिनिस्टर सूर्य प्रताप शाही यहां के मदन मोहन मालवीय मार्ग पर एग्रिकल्चर डायरेक्टोरेट पहुंचे। इस दौरान यहां 25 से 30 फीसदी इम्प्लॉई गायब थे।।

लखनऊ.यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के दो मिनिस्टर्स ने सोमवार को आॅफिसों का अचानक दौरा किया। एक ऑफिस में 25 से 30 फीसदी इम्प्लॉई ड्यूटी पर नहीं थे। दूसरे ऑफिस का भी कुछ ऐसा ही हाल था। इस दौरान मिनिस्टर ऑफ स्टेट मायनॉरिटी वेलफेयर मोहसिन रजा ने इम्प्लॉइज को हिदायत दी। कहा- पिछली सरकार का अभी हैंगओवर ही नहीं उतर रहा है किसी के दिमाग से। योगी जी के आदेश का पालन कीजिए वरना आप सस्पेंड किए जाएंगे। उधर, एग्रीकल्चर मिनिस्टर सूर्य प्रताप शाही ने एक ऑफिस में इम्प्लॉइज के नदारद मिलने पर वहां ताले लगवा दिए। उनका एक दिन का पेमेंट काटने का आॅर्डर भी दिया है। किस मिनिस्टर ने कहां किया दौरा...
एग्रिकल्चर मिनिस्टर सूर्य प्रताप शाही यहां के मदन मोहन मालवीय मार्ग पर एग्रिकल्चर डायरेक्टोरेट पहुंचे। इस दौरान यहां 25 से 30 फीसदी इम्प्लॉई गायब थे।।
इसके बाद मंत्री ने नाराजगी जताते हुए ऑफिस के सभी गेट्स पर ताला लगवा दिया, ताकि देरी से आने वाले इम्प्लॉइज अंदर न आ सकें।
मंत्री ने ड्यूटी से गायब इम्प्लॉईज की एब्सेंट लगवाई और एक दिन का पेमेंट काटने का ऑर्डर दिया।
बक्फ बोर्ड के ऑफिस में मोहसिन रजा ने भी किया निरीक्षण
मिनिस्टर ऑफ स्टेट मायनॉरिटी वेलफेयर मोहसिन रजा ने भी शिया वक्फ बोर्ड के ऑफिस का अचानक दौरा किया। इस दौरान वहां कई इम्प्लॉई और ऑफिसर्स ड्यूटी पर नहीं मिले।
इस पर नाराजगी जताते हुए मोहसिन ने कहा, "यहां पैसों का दुरुपयोग करने के लिए अधिकारी बैठे हैं। 11 बज गए हैं, लेकिन कोई कर्मचारी काम पर नहीं है। उन पर कार्रवाई की जाएगी।"
वक्फ बोर्ड के अधिकारियों-कर्मचारियों पर करप्शन का आरोप है। इसे लेकर मैं सीएम योगी से बात करूंगा और वक्फ बोर्ड को भंग करने की बात कहूंगा।"
मोहसिन ने हटवाई थी मुलायम-आजम की फोटो
बता दें, इससे पहले 23 मार्च को भी योगी सरकार के अकेले मुस्लिम मंत्री मोहसिन रजा ने अपने ऑफिस पहुंचकर अफसरों को डांट लगाई थी। 
उन्होंने अपनी सीट के पीछे मुलायम सिंह यादव और आजम खान की फोटो लगी हुई देखी तो वे नाराज हो गए। उन्होंने अफसरों से पूछा- सरकार किसकी है? जब सही जवाब नहीं मिला तो बोले- यहां पीएम और सीएम की तस्वीर लगाइए।
योगी ने किया था हजरतगंज थाने-गोमती रिवरफ्रंट का इंस्पेक्शन
वहीं, 23 मार्च को ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के हजरतगंज थाने का इन्सपेक्शन किया था। यहां उन्होंने पुलिसवालों से उनके कामकाज करने का तरीका जाना था। 
साथ ही ये भी कहा था कि ये उनका आखिरी इन्सपेक्शन न समझा जाए। वे यहां आते रहेंगे। 
इसके बाद योगी ने अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट गोमती रिवरफ्रंट का जायजा लिया था। यहां गंदगी देखकर सीएम काफी नाराज भी हुए थे। इसके बाद उन्होंने गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की जांच के आदेश दिए थे।
योगी सरकार के कुछ बड़े फैसले
सीएम योगी ने अपने पहले ऑर्डर में अपने मंत्रियों और अफसरों से उनकी प्रॉपर्टी का ब्योरा मांगा था।
राज्य में अवैध बूचड़खानों पर नकेल कसी गई। इससे गोहत्या की रोकथाम होने की बात कही गई है।
महिलाओं को छेड़छाड़ से बचाने और उनकी हिफाजत के लिए एंटी रोमियो स्क्वॉड बनाया गया।
राज्य में सरकारी डि‍पार्टमेंट्स में वर्किंग ऑवर्स के दौरान पान-गुटखा खाने और प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगाई गई।
योगी ने ऑर्डर दिया कि उनका कोई मंत्री अनाप-शनाप बयानबाजी नहीं करेगा। इसके लिए सरकार के दो स्पोक्सपर्सन अप्वाइंट किए गए हैं।
यूपी के सभी थानों, पुलिस चौकियों और पुलिस लाइन्स में साफ-सफाई का ऑर्डर दिया।
गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की जांच के आदेश दिए गए हैं।
News Posted on: 10-04-2017
वीडियो न्यूज़