छीछालेदर कराकर सत्ता खोने वाले अखिलेश और शिवपाल हुए मुलायम,सैफई में जमा होकर राम गोपाल के साथ खायी मिठाई........कोलकाता में 19 मंजिला इमारत में भीषण आग, लगातार फैल रही, फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां मौके पर.........

E-Paper

खान पान की बदलती आदतें और उच्च रक्तचाप के बढ़ते आँकड़े

बहुत समय तक भारत में शाकाहारी लोगों की संख्या अधिक थी‚ शराब का चलन हिन्दू‚ सिख और मुस्लिम सभी में निषिद्ध ही था। भोजन में हमेशा दाल‚ चावल‚ रोटी सब्जी‚ दही या छाछ और सलाद एक आम व्यक्ति को भी सहज सुलभ था। सब्जियाँ सस्ती थीं और मौसमी फलों के भाव आम जन की पहुँच में थे। और गाँवों में तो खेत की पैदावार हो या मक्खन निकाली छाछ हमेशा आस–पास में बाँटी जाती थी। नाश्ते में नमक अजवाईन के परांठे पर मक्खन की डली रख कर खाने वाले मेहनती भारतीय नागरिक या ग्रामीण उच्च रक्तचाप के शिकार न थे। मिठाईयाँ भी तब बस त्यौहारों पर बनतीं वह भी गृहणियों के नपेतुले हाथों।
तब ब्रेड बहुत कम चलन में थी‚ नाश्ते में दो बिस्किट खा कर र

आगे पढ़े
वीडियो न्यूज़